Tuesday, January 19, 2016

फ़िल्मी गानों की तकती - :बहर: पार्ट -2

फ़िल्मी गानों की तकती

��������������������
(16) *आपके पहलू में आकर रो दिए
        *दिल के अरमां आंसुओं में बह गये
        *तुम न जाने किस जहाँ में खो गये |
        2122 - 2122 - 212
��������������������
(18)  *सौ बार जन्म लेंगे सौ बार फ़ना होंगे |
         *हंगामा है क्यों बरपा, थोड़ी सी जो पी ली है |
         *हम तुमसे जुदा होक मर जायेंगे रो रो के |
         *जब दीप जले आना जब शाम ढले जाना |
         *साहिल से खुदा हाफ़िज़ जब तुमने कहा होगा |
         *इक प्यार का नगमा है, मोइजों की रवानी है |
         *हम आपकी आँखों में इस दिल को बसा दे तो |
          221 - 1222 - 221 - 1222
��������������������
(19)   *ये ज़ुल्फ़ अगर खुल के बिखर जाए तो अच्छा है
             2211 - 2211 - 2211 - 22
��������������������
(20)  *न किसी की आँख का नूर हूँ, न किसी के दिल का करार हूँ
         *मुझे दर्दे दिल का पता न था, मुझे आप किस लिए मिल गये
         *न तो कारवां की तलाश है, न तो हमसफ़र की तलाश है
          *तुझे क्या सुनाऊं मैं दिलरुबां, तेरे सामने मेरा हाल है
           11212 - 11212 ,  11212 - 11212
��������������������
(२1)  *बे-खुदी में कमाल कर बैठे,
           तुझसे इज्र्हारे हाल कर बैठे |
           212 - 2121 - 222
��������������������
(22)  *पाँव छू लेने दो फूलों को इनायत होगी |
         2122 - 2122 - 2122 - 22
��������������������
(23)  *रुके रुके से कदम रुक के बार बार चले |
          *किसी नज़र को तेरा इंतज़ार आज भी है |
          *चले भी आओ गुलशन का कारोबार चले |
             cha1 le2 bhii1 aa2`o1 ki1 gul2 shan2 ka1 kaa2ro1baa2 r1 cha1 le2
          *कभी कभी मेरे दिल में ख्याल आता है |
           *तुम्हारी ज़ुल्फ़ के साए में शाम कर लूँगा |
           *ग़मों का दौर भी आये तो मुस्कुरा के जियो |
           *करोगे याद तो हर बात याद आएगी |
           *कभी किसी को मुकम्मिल जहाँ नहीं मिलता |
              Ka1 bhi2 ki1 si2/ ko1 mu1 kam2 mal2 ja1 haa2 na1 hi2 mil1 ta2
             *मेरे नसीब में ऐ दोस्त तेरा प्यार नहीं |

            *झुकी-झुकी सी नज़र बेकरार है कि नहीं |

            *न तू ज़मीं के लिए है न आसमां के लिए |
             na1 tu2 za1 mee2 ke1 li1 ye2 hai2 na1 aa2 s1 maa2 ke1 li1 ye2              

          1212 - 1122 - 1212 - 112(22)
       
( mujtas musamman maḳhbun maḥzuf)
��������������������
(24)  *मिलती है ज़िंदगी में महोब्बत कभी कभी
          2212 - 1211(1221) 2212 12
��������������������
(25)  *न जाओ सैयां छुडा के बैयाँ,कसम तुम्हारी मैं रो पडूँगी |
         *कहीं किसी रोज़ यूँ भी होता, हमारी हालत तुम्हारी होती |
          12122 - 12122 // 12122 - 12122
��������������������
(26)  *सारे जहाँ से अच्छा हिन्दुसिता हमारा
          22121 - 22 - 22121 - 22
�������������������� 
(27)  *अभी न जाओ छोड़ कर कि दिल अभी भरा नहीं|
         *कदम कदम बढाए जा ख़ुशी के गीत गाये जा |
         *पुकारता चला हूँ मैं गली-गली बहार की |
         1212 - 1212 - 1212 - 1212
      
( hazaj musamman mazbuz )
�������������������� 
(28)  *नैन का चैन चुरा कर ले गयी, कर गयी नींद हराम
         2122 1122    2122  1221 12
     
nae2n1 ka2* chae2n1 chu1ra2 kar2 le2 ga1yii2* kar2 ga1yii2* nee.n2d1 ha1raam2  
     
212*21122212*212*21121
        * are the flexible syllables that become short in misra;-raam in end is one long syllable[CVC]
        211211-22211-211211-2
        2222-2222-2222-2 [koii bhii even 2>11]

��������������������
(29) *दुनियाँ में जो आये हैं तो जीना ही पड़ेगा
        *बेकस पे करम कीजिए सरकार-ए-मदीना |
        *ये शाम की तन्हाईयाँ ऐसे में तेरा गम |
        *दुश्मन न करे दोस्त ने ये काम किया है |
        *दुनियां में हूँ दुनियां का तलबगार नहीं हूँ |
         221 - 1221 - 1221 - 122
     
dunyaam juyaayehiN tujiinah parhega
           221-1221-1221-122


��������������������
(30)  *तेरी आँखों में कोई प्यार का पैगाम नहीं है |
         *इस भरी दुनियां में कोई भी हमारा न हुआ |
         *कोई हमदम न रहा कोई सहारा न रहा |
         *हमसे आया न गया तुमसे बुलाया न गया |
          2122-1122-1122-112

       (ramal musamman maḳhbun maḥzuf)
��������������������
        

No comments:

Post a Comment