Wednesday, July 19, 2017

नग्मे

221-2121-1221-212

*यूँ हसरतों के दाग मुहब्बत में दो लिए,
फिर दिल से दिल की बात कही और रो दिए ।

*दिल ढूँढता है फिर वही फुरसत के रात दिन ।

   

No comments:

Post a Comment