Tuesday, January 19, 2016

फ़िल्मी गानों की तकती - :बहर: पार्ट -3

फ़िल्मी गानों की तकती

�����������������������
(31)  *छुपा लो यूँ दिल में प्यार मेरा की जैसे मंदिर में लो दिए की
         12122 - 12122 - 12122 - 12122

�����������������������
(32)  *दोस्त दोस्त न रहा प्यार प्यार न रहा|
         *झूमती चली हवा, याद आ गया कोई |
         *हम तो जाते अपने गाँव सबकी राम राम राम |

Hum2 to1 jaa2 te1 ap2 ne1 gaa2(v)// sab2 ko1 raa2 m1 raa2 m1 raa2 (m)
You will see that the’v’ in gaav is left un accounted for’
An extra short syllable is allowed without accounting for it if it comes just before the compulsory stoppage sign( //=compulsory stoppage symbol)

          212 - 1212 // 212 - 1212
       ( hazaj musamman ashtar maqbuz)
         शिकस्ता बहर
�����������������������
(33)  * चार दिन की चांदनी है फिर अंधेरी रात है  |
           2122-2122-2122-212

�����������������������
(34)  *आपके हसीन रुख पे एक नया नूर है,
         212-1212-1212-1212
          मेरा दिल मचल गया तो मेरा क्या कसूर है |
        नोट:- is line men har alterante 2,4,6----- syllable short aa rahaa ha
�����������������������
(35)  *तुम न जाने किस जहां में खो गये |
        *दिल के अरमां आंसूओं में बह गये |
        *हर जगह दुश्मन ज़माना गम नहीं |
        *इक दिन बिक जाएगा माटी के मोल |
          2122-2122-212

�����������������������
(36)  *एक बहाना बन गया अच्छा |
          21122 - 21122       (non-standard Bahr)
           e2k1 b1 haa2 naa2 ban2 ga1ya1ach2chha2
�����������������������
(37)   *बहारों ने मेरा चमन लूटकर
            खिजाँ को ये इल्जाम क्यूँ दे दिया |
         *हवाओं पे लिख हवाओं के नाम  |
          122-122-122-12[1]
      
हम अनजान परदेसियों का सलाम |
      
ham+anjaan =hamanjaan=ha-man-jaa-n i.e 122-1
�����������������������
(38)  *ज़िंदगी का सफ़र है ये कैसा सफ़र
           कोई समझा नहीं कोई जाना नहीं |
         *हर हसीं चीज़ का मैं तलबगार हूँ |
         *हर तरफ हर जगह बेशुमार आदमी |
         *कर चले हम फ़िदा जानो तन साथियो |
         *खुश रहे तू सदा ये दुआ है मेरी |
         *आपकी याद आती रही रात भर |
         *गीत गाता हूँ मैं गुनगुनाता हूँ मैं |
         *बेखुदी में सनम उठ गये जो कदम |
          *एक लड़की को देखा तो ऐसा लगा |
         212-212-212-212[mutadaarik]
�����������������������
(39)  *मुकद्दर आजमाना चाहता हूँ |
         *मुहब्बत करने वाले कम न होंगे |
         *मेरे हाथों में नो नो चूडियाँ हैं |
         1222 - 1222 - 122
      
mu1qad2 dar2 aa2z1 maa2na2 chaa2 h1taa2 hooN2
�����������������������
(40)  *आओ खो जाएँ सितारों में कहीं |
          aa2`o1 kho2 jaa2 yeiN1 si1 taa2 roN2 meiN1 ka1 hiiN2
         *आपके पहलू में आकर रो दिए |
         Aa2 p1 ke2 qad2 mo1 me1 aa2 ka2r ro1 di2 ye2
          2122-1122-112
         
           last rukn 112=22 bhii use ho sakta hai.

2122 1122 112 or 1122 1122 112
( ramal musaddas maḳhbun maḥzuf )

�����������������������
(41)  *ये धुआं सा कहाँ से उठता है |
         *उसकी हर बात,बात फूलों की |
         *आये कुछ अब्र कुछ शराब आये |
           2122-1212-22
       
abr=ab-r 21

�����������������������
(42)  *अच्छी नहीं सनम दिल्लगी दिल-ए-बेकरार से |
         22-121-22-121-22-121-2
     
ach2 chhii2 na1 hiiN2 sa1nam2 dil2-la1 gii2 di1 l-e2-be2 qa1 raa2 r1 se2

�����������������������
(43)  *चाँद आहें भरेगा फूल दिल थाम लेंगे |
         212-2122//212-2122

�����������������������
(44)  *ज़िंदगी हमें तेरा ऐतबार न रहा |
         *जाग दर्द इश्क जाग, दिल को बेकरार कर |
         *जो भी प्यार से मिला हम उसी के हो लिए |
          212-1212//212-1212

�����������������������
(45)  *जीवन से भरी तेरी आँखें मजबूर करें जीने के लिए |
         22112-22112-22112-22112 [11 can be 2]
         2222-2222-2222-2222
agar ise last misre se compare karen to is men stress even 2 par hai,aur odd 2 ko esp 3,7,11,15 ko 11 kar sakte hain
         *एक था गुल और एक थी बुलबुल, दोनों चमन में रहते थे
          |ek thaa gul aur/ ek thii bulbul /donoN chaman meN /rehte the
          21122/21122/21122/222
          2222-2222-2222-222
[aur flexible hai ;2 and 21 donon taur use kar lete hain,
also iska r+ek= rek 21bhii banaa sakte hain]

�����������������������

1 comment:

  1. #40. बहर- 2122 1122 22 पर फिल्म "सन्नी" से यह गीत है-

    और क्या अहदे' वफा होते हैं,
    लोग मिलते हैं' जुदा होते हैं ।।

    Beginners के लिए यह मददगार साबित होगा ।

    ReplyDelete